यारब आज फिर दिल धडका
वो बचपन की शरारतें याद आई
वो किले की सडक से साईकल को
रफ्तार तेज से छोड देना
आंखे जोर से बंद कर लेना
सोच कर यह अब तो टक्कर हुई के हुई
रोज की खरची से छुट्टियों मे
दोपहर को टाफियां,बिस्कुट,ढेर सारी चीजें ले
अपनी सहेलियों के संग पार्क जा
पिकनिक का मजा
याद कर यारब आज फिर दिल धडका
गोल गोल टुकुर टुकूर आंखो से
डैडी का कचहरी से आने का
रास्ता देखना
फिर आने पर उनके हाथों से
थैला लेकर सारे आमो को
डरम मे उलट कर
बडे छोटे का हिसाब लगाना
डैडी की वो डपट मेरे बाप
सारे तेरे हैं
याद कर यारब आज फिर दिल धडका
टेबल फैन को अपनी चारपाई पर
करने की भाई बहन की लडाई
वो आंगन मे टी वी पर रात भर
तीन तीन वी सी आर की फिल्मे
देखने को यारब आज फिर दिल धडका
जरा सा उदास होने पर
झट छत पर से सामने वाले पीर बाबा
को देख कर शुकून पा जाना
ना जाने आज फिर योगी
सजदा करने को दिल धडका
गर्मियां आने पर फिर से
मायके जाने को दिल धडका

No votes yet.
Please wait...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *