प्रेम डायरी राधे-कृष्णा 1

Home » प्रेम डायरी राधे-कृष्णा 1

प्रेम डायरी राधे-कृष्णा 1

By |2018-05-28T22:57:51+00:00May 28th, 2018|Categories: कविता|Tags: , , |0 Comments

कान्हा कौन सा ये प्रेम सागर लाये
बजे बांसुरी तो प्रेम लहर मोहे आती देखाय,
मै भी एक किनारा बनना चाहु
तोहरी हर लहर से टकराना चाहु,

छाया भी मोहरी कर ली अपने रंग मे
नहीं रहा धीरज मोहे अब अंग,
धडकन भी म्हारी धक्क सी बड जाये
कानो मे जब तोहरी बांसुरी गुंजाये,

कर अब हमे अपने ही संग मे
छवि बसी हे तोहरी हमरी अखियन मे,
बना लो अपना दासी ,यह पद भी मोहे भाय
काहे कान्हा इतना प्रेम सागर ले आये

Say something
No votes yet.
Please wait...

About the Author:

Leave A Comment