आँसू, ग़म, तन्हाई बाँटो

आँसू, ग़म, तन्हाई बाँटो

आँसू, ग़म, तन्हाई बाँटो
दर्दों की पुरवाई बाँटो

हक़ सियासत ने दिया है
दु:ख की तुम शहनाई बाँटो

पहले क़त्ले-आम कर दो
उसकी फिर भरपाई बाँटो

अब मचाओ खूब आतंक
कब्रों जैसी, खाई बाँटो

झपती आँखों मे हैं सपने
उनमें कुछ बीनाई बाँटो

मुफ़्लिसों को है ज़रूरत
हक़ की पाई पाई बाँटो

अब सन्नाटा ख़ुद में गुम है
इतना तुम परछाई बाँटो

एक मंजर पसरा बाहर
आप अंदर खाई बाँटो

इश्क़ में तब ख़ुश बहुत थे
इसकी अब अगुआइ बाँटो‍
‍‍
ग़ज़लों में कितना सकूं है
ग़ज़लों से तन्हाई बाँटो
Aanshu, Gham, tanhaee banto
Dard ki purwaee banto

Haq siyasat ne diya hai
Dukh ki tum shahnaee banto

Pahle Qatl-e-aam kr do
Uski phir bharpaee banto

Ab machao khoob aatank
kabron jaisi khaee banto

Jhapti aankho’n me hai sapne
unme kuch beenaee banto

Mufliso’n ko hai Zaroorat
Haq ki paee paee banto

Ab sannata khud me gum hai
itna tum parchaee banto

Ek manzar pasra bahar
Aap andar khaee banto

Is‍hq me tb khush bhut the
iski ab aguaaee banto

Ghazalo’n me kitana sakun hai
Ghazalo’n se tanhaee banto

Jangveer Singh Rakesh

Comments

comments

Rating: 1.0/5. From 1 vote. Show votes.
Please wait...
Spread the love
  • 2
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    2
    Shares

Leave A Comment