बिजली का मीटर

Home » बिजली का मीटर

बिजली का मीटर

बिजली का मीटर (लघु कथा)

 

“सर … नमस्कार, मैं मास्टर सुनील बोल रहा हूँ, कैसे है हुक्म आप?” उधर से बेहद ऐठ भरी आवाज मे प्रतिकार मिला ” कौन मास्टर …बोलो क्या काम है ? ” मास्टर सुनिल जी विनित स्वर मे मिमियाये ” आप बिजली बोर्ड के  सीसियर देवडा साहब ही फरमा रहे है , सर मीटर लगवाना है, महिने से लगातार आफिस के चक्कर काटने पर भी कोई जवाब नही देता, ऐइयन , जेइयन आपसे मिलने की सलाह देते है, और आप कभी मिले नही … ” देखो मास्साब, आप को तो हम क्या समझाये , बात करने की फुर्सत नही मिलती,  लंबा एरिया है , स्टाफ है नही, उधर मार्च की वसूली चल रही है, मार्च के बाद ही कुछ हो सकता है । ” उनका फोन कट जाता है, मास्टर सुनिल के चेहरे पर चिंता की लकीरे फैल जाती है । पिछले कई दिनो से प्रयास के बावजूद कोई सुनवाई नही करता, आखिर थक हार कर  अपने गांव के नेता से विनती करनी पड़ी, वे मास्साब के शिष्य थे पर क्षेत्र के एम एल ए , एम पी उनके बिना पैसे के गुलाम थे , पार्टी मे उनके टिकट से लेकर खर्चे पानी का सारा बंदोबस्त उनकी कृपा से होता था, और दबंगई के कारण हर कोई उनके आगे नतमस्तक रहता था, अपने गुरू को आया देख उन्होंने कहा ” आइए गुरू जी, कैसे आना हुआ ? कोई सेवा हो तो बोलिए? उनके आस पास कुर्सी पर बड़े बड़े अधिकारी के बीच  बिजली विभाग के एइयन साहब भी बिराजे हुए थे , सुनील जी सर खडे खड़े सोच रहे थे क्या यह ठीक रहेगा अधिकारी के सामने ही अपनी बात कहना , वे विचार मग्न थे कि फिर नेता जी बोले, ठीक गुरू जी कोई काम काज हो तो आप मुझे कल मिलियेगा , अवश्य ही आपकी सेवा मे हाजिरी दूंगा! ” और गुरू की उपेक्षा कर शिष्य नेता अपने चहेतो के साथ धंधे की बातो मे लग जाता है । सुनील वहां से निश्वास लेकर लौट पडते है ।

रात की सघन अनुभूति से बचते हुए किसी तरह सीसियर के दरवाजे पर दस्तक देते है, दरवाजा खुलते ही सीसियर को  एक लिफाफा भेट करते है, उधर से स्वीकृति धीमी फुसफुसाहट के स्वर उभरते है “कल किसी भी हालत मे शाम तक आपके घर मीटर लग जाएगा” फिर दरवाजा बंद हो जाता है ।

मास्टर जी आश्वस्त होकर  घर लौटने पर अपनी पत्नी से  कहते है, नेता मेरा शिष्य है , एइयन को खूब फटकार लगाई, मिमियाये एइयन ने आश्वासन दिया है कल मीटर लग जाएगा …. ।।

 

छगन लाल गर्ग विज्ञ!

निवासी-जीरावल, सिरोही!

राजस्थान!

 

Say something
Rating: 4.0/5. From 2 votes. Show votes.
Please wait...

About the Author:

Leave A Comment

हिन्दी लेखक डॉट कॉम

सोशल मीडिया से जुड़ें ... 
close-link