फिज़ाओ में हवाओ में शरारते

एक दिन नहीं होता हमारी सभ्यता में प्यार करने को
हम तो हर पल प्यार करते हैं अपने जानेमन को

फिज़ाओ में हवाओ में शरारते फैल रही है
कुछ चुलबुला करने को दिल मचल रहा है

थोड़ा सा गुनाह आज फिर से करले
आओ तुमको बाहो में भरले

चलो एक दिन विदेशी अंदाज़ में तुम को प्यार करले
I  LOVE YOU, I  LOVE YOU कहाँ दे


संजीव कुमार बर्मन

No votes yet.
Please wait...

Leave a Reply

Close Menu