मेरे पिताजी

मेरे पिताजी

🕉

🚩 मेरे पिताजी
—————-
पिताजी रोज़ रात को आते हैं
कहते हैं
सयाने हो गए हैं बच्चे
अब इन्हें अपने परों से उड़ने दे
आशा – निराशा
मान – प्रतिष्ठा
और निष्ठा
जहाँ धरते हैं धरने दे
सयाने हो गए हैं बच्चे
अब इन्हें अपने मन की करने दे
अब छोड़ सब
तू आ जा ।
आप वहाँ भी मेरी चिंता करते हैं ?
इतना ही कह पाता हूँ
पिताजी खिलखिलाकर हँसते हैं
और मैं जाग जाता हूँ
पिताजी के बिना अपने को अकेला पाता हूँ
अपने को बहुत अकेला पाता हूँ मैं. . . !

वेदप्रकाश लाम्बा ९४६६०-१७३१२

Comments

comments

No votes yet.
Please wait...
Spread the love
  • 2
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    2
    Shares

Leave A Comment