घर वापसी

घर वापसी

🕉

घर वापसी

जब आए थे
खूब रोए थे
बिछुड़ने का दु:ख होता ही है
अब घर वापसी है
जो – जो लेकर चले थे
सहेज लो
मैं इक – इक करके सब याद कर रहा हूँ
इन दिनों फिर से गीता पढ़ रहा हूँ ।

वेदप्रकाश लाम्बा ९४६६०-१७३१२

Comments

comments

No votes yet.
Please wait...
Spread the love
  • 2
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    2
    Shares

Leave A Comment