ज़ख़्मों के फूल

Home » ज़ख़्मों के फूल

ज़ख़्मों के फूल

By |2018-07-08T10:38:37+00:00July 8th, 2018|Categories: गीत-ग़ज़ल|Tags: |0 Comments

 

 ज़ख़्मों के फूल 

सुकूँ गया जहान का
मील के पत्थर हिल गए
वो गए तो गए सौगात में
कुछ नग़मे मिल गए

गुम हो गईं परछाईयाँ
उगती सवेर में
मेहरबानियों से उनकी
ज़ख़्मों के फूल खिल गए

वीरानियाँ ख़ामोशियाँ
और दौलत सर्द आहों की
बदले में सिर्फ़ यारो
यारों के दिल गए

कहाँ तक उलझता
मैं बिगड़े नसीब से
उसकी खुली ज़ुबान
मेरे होंठ सिल गए

उनके यहाँ से सिर्फ़ हम उठे
इधर की क्या कहें
लबों की लज़्ज़त आँखों के पैमाने
गालों के तिल गए

मासूम – सा सवाल इक
नश्तर – सा चुभ गया
“अब कब मिलोगे ?”
अहसास नर्म – नाज़ुक छिल गए

कोई कहे न उनकी ख़ता
जानता हूँ मैं
राहे – वफ़ा दुश्वार बहुत
होश के भी होश हिल गए ।

– वेदप्रकाश लाम्बा

९४६६०-१७३१२

Say something
Rating: 5.0/5. From 1 vote. Show votes.
Please wait...

Leave A Comment