जब मैं पहली बार वर्धा आया।
देखा परियों का मेला उसकी।
उसकी आँखों में चाहता थी।
मेरे आँखों में चाहत थी।
वह मिलने को बेकरार थी।
किंतु मैं मजबूर था।

Rating: 5.0/5. From 1 vote. Show votes.
Please wait...