कह दूं क्या

Home » कह दूं क्या

कह दूं क्या

सुनो,आज कह दूं क्या?

जो कभी नहीं कहा।

कई दफा सोचा कि कह दूं।

पर पास आते ही,तुम्हारी लटों में

उलझ जाते थे मेरे शब्द।

कश्मकश ये कि उलझे शब्दों में कैसे कहूं?

बेचैनी ये कि बिन कहे कैसे रहूं?

चलो आज बोल ही देता हूं।

कुछ राज है जो खोल देता हूं।

लेकिन शुरुआत कहां से हो?

तुम्हारी शफ़क़ होंठों से या,

तुम्हें न छुपाने की कसक से?

या आदि से कहूं मैं

और कह दूं अंत तक।

फिर सोचता हूं कि तय करूं,

तुम्हारा आदि और अंत।

तुम्हारी बातों का,तुम्हारी यादों का आदि और अंत।

अफसोस कि ना बांध सका तुम्हें,

आदि और अंत के बंधनों में।

जानता हूं कि न बांध पाऊंगा तुम्हें सीमाओं में।

ना ही कह सकूंगा जो कभी नहीं कहा।

Say something
Rating: 4.3/5. From 3 votes. Show votes.
Please wait...
लिखने और पढ़ने में रुचि। चित्रकारी का शौक। जन्मस्थान-गाँव-दनोकुइयाँ जिला-सिद्धार्थ नगर,यूपी

One Comment

  1. SUBODH PATEL July 8, 2018 at 6:51 pm

    अति सुन्दर रचना

    Rating: 5.0/5. From 1 vote. Show votes.
    Please wait...

Leave A Comment

हिन्दी लेखक डॉट कॉम

सोशल मीडिया से जुड़ें ... 
close-link