आज धूप निकला मुकद्दस…

Home » आज धूप निकला मुकद्दस…

आज धूप निकला मुकद्दस…

गजल…

आज धूप निकला…

आज धूप निकला मुकद्दस
छट रही काली घटाएं !

फिर परींदे गा उठे है
मिट रही सारी बाधाएं !!

खिल उठे है फूल अब तो
बागबां कुछ गुनगुनाए !

जोर जुल्मों को मिटा कर
आ खुशी के गीत गाएं !!

खुशनुमा मौसम है यारो
क्यों न हम भी मुस्कराएं !

दिल की बस ये आरजू है
आ गले सबको लगाएं !!

वो उठा सूरज मचल कर
देख क्या सूरत दिखाए !

प्यार के पहलू मे आ जा
नफरतों को भूल जाए !!

आज धूप निकला मुकद्दस
छंट रही काली घटाएं …!!!

-मनोज उपाध्याय मतिहीन

Say something
Rating: 4.0/5. From 1 vote. Show votes.
Please wait...

About the Author:

मनोज उपाध्याय मतिहीन, अयोध्या नगर महासमुंद,छ.ग. पिन 493445

Leave A Comment