पृथ्वीराज चौहान…

मात दिया सोलह सोलह लिया जीत मैदान

धीर वीर वह भारत का पृथ्वीराज चौहान |

 

गोरी कायर छल किया लिया सत्य वह जान

यह अजेय रण में इसको जाने जगत सुजान ||

 

वीरव्रती संकल्प का तोड़ नही कोई और

शयन काल में वार करो अगर बचानी जान |

 

मध्य रात्रि में जब चौहान थे थके घोर निद्रा में

किया अचानक हमला गोरी नीच महा अज्ञान ||

 

सिंह कही पिंजरबद्ध हो तो फिर भी रहता सिंह

मूरख गोरी भूल गया यह बहुत बड़ा बलवान |

 

अपनी सत्ता और सिपाही के घेरे में लेकर

आँखे फोड़ दिया अँधे बन गये वीर चौहान ||

 

फिर भी हार न मानी चँद्रवर के कहते वह वीर

दिया शब्दभेदी सर से गोरी की गरदन चीर |

 

किया मान की रक्षा वीर वह दे कर अपने प्राण

शत्रु शमन कर दिया वीर ने रख ली अपनी आन ||

 

मनोज उपाध्याय मतिहीन…

 

No votes yet.
Please wait...

मतिहीन

मनोज उपाध्याय मतिहीन, अयोध्या नगर महासमुंद,छ.ग. पिन 493445

Leave a Reply

Close Menu