हँस हँस कर दर्द भूलाता हूँ…

हँस हँस कर दर्द भूलाता हूँ…

By |2018-07-21T11:46:57+00:00July 21st, 2018|Categories: कविता|Tags: , , , |0 Comments

तुमने अभी कहां जाना है
मुझको कितना पहचाना है !

रो रो कर प्यास जगाता हूँ
हँस हँस कर दर्द भूलाता हूँ !!

तितिक्षा जीवन देती है
पीडा अंदर भर देती है !

उद्वेलित भवना कर देती
मै छलता इसे सुलाता हूँ !!

तुम मुझे ढूंढती कहां प्रिये
मै निर्जन कानन वासी हूँ !

तन जहां मेरा मै वहां नही
मै इस जग का उपहासी हूँ!!

मतिहीन मै मंथर गति चलता
मुझे रास न रंच भी चपलता !

मुझको अपना अपयश खलता
मै अहम नही दिखलता हूँ  !!

मै श्रेष्ठ बनूं कामना नही
अध्येष्ठ बनूं कामना नही !

मै तुम्हें प्रकाशित करने को
खुद को ही स्वयं जलाता हूँ !!

रो रो कर प्यास जगाता हूँ
हँस हँस कर दर्द भूलाता हूँ !!!

मनोज उपाध्याय मतिहीन

Say something
No votes yet.
Please wait...
Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

About the Author:

मनोज उपाध्याय मतिहीन, अयोध्या नगर महासमुंद,छ.ग. पिन 493445

Leave A Comment

हिन्दी लेखक डॉट कॉम

सोशल मीडिया से जुड़ें ... 
close-link