बरसात की ताज़ी झरोखें

Home » बरसात की ताज़ी झरोखें

बरसात की ताज़ी झरोखें

दिल मे आग लगया कुछ इस तरह उसने।
बरसात के मौसम में हम जल के राख बन गए।।
———————————–
हम बैठें थे उनके इंतजार में।।
वो आयी और हाथ हिलाए।।
मुस्कुराई और चल दिए।।
———————————–
ए बारिस मुझे पता है।।
तेरे दिलवर से मिलने का समय आ गया है।।
इतना भी खुश ना हो जा ए बारिस।।
सब को अपनी खुशी में बहा ले जाओ।।
———————————-
उनका सितम भी इतना गहरा था।।
जितना समुद्र का पानी भी नही।।

Say something
Rating: 5.0/5. From 1 vote. Show votes.
Please wait...
प्रेम प्रकाश पीएचडी शोधार्थी (राँची विश्वविद्यालय) झारखण्ड, भारत।

Leave A Comment