सबका एक विधाता…

सबका एक विधाता…

कौन किसी को क्या देता है
नही कोई जहां में दाता |

इंसा बड़ा नही कोई इतना
सब का एक ही विधाता ||

किया नव्य किर्ति भी कोई
या कि उपहार है लाता |

ईश प्रेरणा के ही कारण
दानी वह कहलाता ||

मदद करे न बन कारण तू
क्यों एहसान जताता !

सबका मालिक एक है जग में
सब का एक विधाता ||

-मनोज उपाध्याय मतिहीन

No votes yet.
Please wait...

मतिहीन

मनोज उपाध्याय मतिहीन, अयोध्या नगर महासमुंद,छ.ग. पिन 493445

Leave a Reply

Close Menu