प्रिये तुम आओ पास मेरे

प्रिये तुम आओ पास मेरे
——————————-

प्रिये तुम आओ पास मेरे, मैं बाहों का बंधन दूंगा ।
महक उठेगा तन मन तेरा, मैं प्यार भरा चंदन दूंगा ।
मेरे दिल की बगिया में तुम, आ जाओ बनकर मेहमान ।
सपन सलौने जो आँखों में, पूरे कर जाओ अरमान ।।
कमल पंखुड़ी अधर तुम्हारे, इन अधरों पर चुंबन दूंगा ।
प्रिये तुम आओ पास मेरे, मैं बाहों का बंधन दूंगा ।

तू लगे है पूर्णमासी सी, तू लगे नदी बलखाती सी ।
है अंग अंग में मादकता, तू झड़ी लगे बरसाती सी ।
तू लगे सुबह की बेला है, तू नभ में चाँद अकेला है ।
सुगन्ध से अपनी महकाती, तू लगे फूल अलबेला है ।
इंद्रधनुष के रंगों जैसा, मैं लगा तुझे रंजन दूंगा ।
प्रिये तुम आओ पास मेरे, मैं बाहों का बंधन दूंगा ।

तू लगे घटा मनभावन सी, तू लगे छटा है सावन सी ।
मदमस्त बहे मधुमासी सी, तू पवन बड़ी ही पावन सी ।
हैं नयन बड़े ही मतवाले, ये भरे सुरा के हैं प्याले ।
इन दो नयनोँ के क्या कहने, कहीं मार हमें न ये डालें ।
सुरा भरे तेरे नयनोँ को, मैं प्यार भरा अंजन दूंगा ।
प्रिये तुम आओ पास मेरे, मैं बाहों का बंधन दूंगा ।

तू लगे प्रेम की मूरत सी, तू लगे देव की सूरत सी ।
तू अमर प्रेम की परिभाषा, तू शुभ घड़ी लग्न मुहूर्त सी ।
मुझको तेरी अभिलाषा है, अब मधुर मिलन की आशा है ।
नयनोँ की बातें समझ प्रिये, यह मूक प्रेम की भाषा है ।
तुम मन मंदिर में आ जाओ, मैं शीश झुका वंदन दूंगा ।
प्रिये तुम आओ पास मेरे, मैं बाहों का बंधन दूंगा ।

Rating: 3.7/5. From 3 votes. Show votes.
Please wait...

बिहोर सिंह "विहंग"

20 वर्ष एक शस्त्र सैनिक के रूप में भारतीय वायु सेना में सेवा के उपरांत वर्तमान में भारतीय स्टेट बैंक में अधिकारी संपर्क सूत्र 9999480645 Email-bihor22@gmail.com

This Post Has One Comment

  1. सुंदर रचना

    Rating: 5.0/5. From 1 vote. Show votes.
    Please wait...

Leave a Reply

Close Menu