मित्र हो तो ऐसा

Home » मित्र हो तो ऐसा

मित्र हो तो ऐसा

By |2018-08-05T13:18:38+00:00August 5th, 2018|Categories: कविता|Tags: , , |1 Comment

दोस्त हो तो ऐसा

मित्र बनाया नही जाता वों तो खुद बन जातें!
मित्र वों है जो दिल और पवित्र व सचित्र हो!
अच्छा मित्र कभी गलत राह नहीं दिखता है!
अच्छा मित्र वों होता है जो सदैव आपका हित चाहे!

अच्छा मित्र न गरीबी देखगा न अमीरी देखेगा!
अच्छा मित्र सदैव बिना डरे बुरी आदतों से दूर रखें!
अच्छा मित्र आपको शारीरिक रूप से करीब रहेगा!
अच्छा मित्र हमेशा आपका मानसिक संतुलन बनाएगा!

मित्र हमेशा हर दुःखद परिस्थितियों में साथ देगा!
1000 मित्र से बेहतर है एक सच्चा मित्र हो आपका!
मित्र हमेशा आपका जीवन के हर पहलू में साथ होगा!
कहें “प्रेम” कविराय सच्चा मित्र आपको सुख की अनुभति देगा!
प्रेम प्रकाश

Say something
No votes yet.
Please wait...
प्रेम प्रकाश पीएचडी शोधार्थी (राँची विश्वविद्यालय) झारखण्ड, भारत।

One Comment

  1. Guddu Sikandrabadi August 5, 2018 at 1:57 pm

    Nice

    No votes yet.
    Please wait...

Leave A Comment