प्रेमचंद के पन्नो से कुछ खास उठाकर लाया हूँ…

Home » प्रेमचंद के पन्नो से कुछ खास उठाकर लाया हूँ…

प्रेमचंद के पन्नो से कुछ खास उठाकर लाया हूँ…

By |2018-08-07T00:03:59+00:00August 7th, 2018|Categories: गीत-ग़ज़ल|Tags: , , |0 Comments

मै प्रेम चंद के पन्नो से कुछ खास उठा कर लाया हूँ
मै गबन और गो दानों का इतिहास उठा कर लाया हूँ !

जो अब तक हुआ आगे ना हो इसका उत्तर मुश्किल होगा
जो कुछ साकार हुआ मुझसे वो आस उठा कर लाया हूँ !!

तुम चले नही दो चार कदम वरना हालात और होते
जो सर पर उठा सका अपने वो पास उठा कर लाया हूँ !

अब थाम लो अपने हाथों मे लगाम छूटने ना पाए
जो छोड़ चूके थे तुम शायद विश्वास उठा कर लाया हूँ !!

दम भर लो क्यों दम साध खडे क्यों घुटन भरे जीते हो तुम
इस कर्मभूमि कर्बला से मै कुछ श्वांस उठा कर लाया हूँ !!

जो है उपलब्ध वो सब तेरा मै तो मतिहीन जगत से हूँ
कुछ और नही अपने ख़ातिर उपहास उठा कर लाया हूँ !!

*मनोज उपाध्याय मतिहीन*

Say something
No votes yet.
Please wait...

About the Author:

मनोज उपाध्याय मतिहीन, अयोध्या नगर महासमुंद,छ.ग. पिन 493445

Leave A Comment