मेरी जंग

मेरी जंग

वर्दी नहीं  है मेरे पास पर जंग तो 

मैं भी लड़ती हूँ रोज़ 

सुबह सवेरे नींद से लड़ कर उठती हूँ

फिर तो जंग शुरू हो जाती है !

तलवार नहीं पर छुरी है मेरा हथियार

मैदान नहीं रसोई है मेरा रण ,

दौड़ दौड़ कर वक़्त पर करती हूँ वार

कभी वो कभी मैं जीत जाती हूँ !

तमग़ा या मेडल नहीं पर जीत मैं मुस्कान

और हार पर मायूसी मिलती है ,

दुश्मन मेरा वो फ़ालतू काम  है जो बिन पूछे

आ जाता है

सेना मेरी , मेरा हौसला है और सवारी

मेरे पैर बनते है !

कमज़ोर कर देता है , जब शरीर साथ नहीं देता

पर उससे भी लड़ती हूँ ..

ऐसा लगता है जैसे शहिद हो कर  ही मुक्ति मिलेगी,

वक़्त , भावनायें , उदासी , मायूसी सबसे रोज़ की जंग,

कभी तो समझोता हो सबके बीच,

कभी तो इस जंग मैं विराम लगे ,

कभी तो शांति छाए मेरे खेमे मे,

चलो इन्तज़ार करते है !

 

Rating: 4.0/5. From 1 vote. Show votes.
Please wait...

Leave a Reply

Close Menu