मन है भीगे

Home » मन है भीगे

मन है भीगे

By |2018-08-20T22:36:32+00:00August 20th, 2018|Categories: कविता|Tags: , , |0 Comments

सावन की तीजे
मनवा मोर भीजे है
बाबुल तोरा नेह
कैसे मै भूलूं
मेले मे जाना
पहनन को चूडियां
मन मोरा रीझे है
भोलीसी मन मर्जी
पांच रूप्पली खर्ची
वो पुडिया की पर्ची
मन मोरा खींचे है
मेंहदी की जिद्द
छपी हाथ पर चवन्नी-अठन्नी
रंगली वो मेंहदी
बाबुल तेरी पुच्ची
कैसे मैं भूलूंना है अब मेले
याद है हिंडोले(झूले)
बदरा जब बरसे
मनवा है तरसे
तब भीजे था तन
अब भीगे मन
सावन तो आवे हर साल
पर मै ना बढ पाई
खडी हूं अब भी वहां योगी
जहाँ नेह फूल बीजे

Say something
No votes yet.
Please wait...

About the Author:

Leave A Comment