शांति (कविता)

Home » शांति (कविता)

शांति (कविता)

By |2018-08-18T07:32:32+00:00August 17th, 2018|Categories: कविता|Tags: , , |0 Comments

मैं ने सोचा
क्या है शांति ?
कहाॅ है शांति ?
गाती है भ्रमर सदा गाना
झरझर करता है सदा झरना
गरजता है बादल
बरसता है जल
मैं ने सोचा
क्या है शांति ?
कहाॅ है शांति ?
घर पर आई भाभी
लेकर प्यारी भतीजी
कुछ देर हॅसती
कुछ देर रोती
कभी न रही शांति
क्या है उसका नाम पूछी
रख लो तुम कहा भाई
मैं ने अब सोचा
आत्मा ही है शांति
आत्मा में है शांति
हॅसकर मैंने रखी
उसका नाम शांति ।

Say something
Rating: 5.0/5. From 1 vote. Show votes.
Please wait...

Leave A Comment

हिन्दी लेखक डॉट कॉम

सोशल मीडिया से जुड़ें ... 
close-link