*अंतर धून्ही*

*अधूरे सत्य को तुम जानते हो*
*मुझे अब तक नही पहचानते हो |*

*निमित्त तेरे ही तो मतिहीन बना*
*मुझे किंचित न अपना मानते हो ||*

*शशि दिनकर से है मैत्री हमारी*
*कहो क्यों रार मुझसे ठानते हो !*

*तेरे अंतर में चलता धूँध हूँ मैं*
*मुझे ही छोड़ते संधानते हो ||*

*मनोज उपाध्याय मतिहीन*

No votes yet.
Please wait...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *