हमराज आँखे

Home » हमराज आँखे

हमराज आँखे

By |2018-09-05T21:30:28+00:00September 5th, 2018|Categories: गीत-ग़ज़ल|Tags: , , |0 Comments

आँखो को क्या जो दिखता है उस पर वही अमल करती है
और काल गति से प्रेरित हो उस पर वही पहल करती है!

पर जो अंतरनयन है वो सच झूठ सभी बतला देती
कभी विराने को घर बोली खंडहर कभी महल कहती है!!

हंसते चेहरे के पीछे क्या दर्द छुपा जाना किसने
मन की पीड़ा को अब तक बिन कहे है पहचाना किसने!

पर जिसने अंदर से देखा उसको हाल पता कहती है !
पिये उम्र भर आंसू इसने बिन बोले सब कुछ सहती है!!

पीर पराई किसने जाना किसने उसका मोल दिया
जख्म कहां किसका कितना इसने ही सहज से तोल दिया!!

भेद कहे ना कहे कोई हर राज सभी का ये जाने
दुनियां की हर सच्चाई के साथ सदा आँखें रहती है!!

– मनोज उपाध्याय मतिहीन

Say something
No votes yet.
Please wait...

About the Author:

मनोज उपाध्याय मतिहीन, अयोध्या नगर महासमुंद,छ.ग. पिन 493445

Leave A Comment