जुबां और रिश्तों का बड़ा ही गहरा नाता है,
जुबां गर मीठी हो तो हर कोई अपनाता है |
गर जुबां खुल जाये तो एक जंग सी छिड़ जाये,
जो जुबां चुपचाप हो तो एक सादगी छा जाये |
जुबां के खेल बड़े ही चालाक होते हैं,
कहीं मिलते हैं टूटे दिल तो कहीं तलाक होते हैं |

No votes yet.
Please wait...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *