36*23 इंच के पेपर पर 600 लोगों के                                  केरिकेचर्स

मधु मक्खियों को क्या पता वो सहद बना रही हैं वो तो सिर्फ़ अपना काम कर रही हैं—- पीयूष गोयल
पीयूष गोयल अपनी धुन के पक्के हमेशा कुछ ना कुछ नया करते रहना उनकी फ़ितरत हैं. इसी के चलते पीयूष गोयल ने दुनिया की पहली मिरर इमेज किताब”श्री मदभगवदगीता” के सभी 18 अध्याय 700 श्लोक हिन्दी व अंग्रेजी दोनो भाषाओ में लिख चुके हैं कुछ समय पहले पीयूष ने सुईं से भी किताब लिखी हैं,ऐसा दुनिया में अभी तक नही हुआ हैं “दुनिया की पहली सुईं से लिखी “मधुशाला” (हरबंस राय बच्चन कृत).
पीयूष 2000 से कुछ न कुछ लिखते आ रहे हैं श्रीमद्भगवदगीता (हिन्दी व अंग्रेज़ी), श्रीदुर्गा सप्त सत्ती (संस्कृत भाषा), श्रीसाई सतचरित्र (हिन्दी व अंग्रेज़ी), श्रीसुंदरकांड (दो बार), चालीसा संग्रह, सुईं से मधुशाला, मेहन्दी से गीतांजलि (रबींद्र नाथ कृत), कील से “पीयूष वाणी” (पीयूष गोयल कृत) व कार्बन पेपर से “पंच तंत्र” (विष्णु शर्मा कृत), रामचरित्रमानस (दोहा,सोरठा,चोपाई) (तुलसीदास कृत)
यानी पांच तरीके से पांच किताबें.
अभी हाल ही में पीयूष ने एक और कारनामा किया हैं उन्होने करीब दो महीनो में 36*23 इंच के पेपर पर 600 लोगों के केरिकचर्स बनाएं हैं जिनमें
नरेंद्र मोदी, अमित शाह, अमिताभ, कपिलदेव, सचिन, राहुल गांधी, सोनिया गांधी, दिग्विजय सिंह, अटल जी, मनमोहन जी, चंद्रशेखर जी, मुकेश अंबानी, मायावती, मदर टेरेसा, मुलायम सिंह, गुजराल जी, सुब्रह्मण्यम आदि प्रमुख हैं।

No votes yet.
Please wait...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *