मंज़िल 
अ मेरी मंज़िल 
आ राहों में
इक दिन चल पड़ूँगा
उस तरफ
ओर मंज़िल मुझे मिल जायेगी
और 
अंत में
अस्त हो जाउगा|

Rating: 5.0/5. From 1 vote. Show votes.
Please wait...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *