लेखक का अंतर्द्वंद

Home » लेखक का अंतर्द्वंद

लेखक का अंतर्द्वंद

By |2018-09-13T20:11:53+00:00September 13th, 2018|Categories: कविता|Tags: , , |0 Comments

सोच रहा था क्या लिखूं, द्वन्द हो रहा था अंतर्मन में|
कुछ लिखूं फिर मिटा डालूं, हलचल थी मेरे मन में|
कुछ लिखा राजनीति पर, तो कभी शब्दों मैं हास्य बसा था|
कुछ रचनाएँ मॅहगाई की थी, तो किसी कविता मैं प्यार बसा था|
कुछ ऐसे भी लफ्ज़ बहुत थे, जो थोड़ा इतराते थे|
कुछ आ जाते फट से मन में, तो कुछ थोड़ा कतराते थे|
कुछ शब्दों मैं दर्द बहुत था, तो कुछ बैचनी दिखलाते थे|
रचना का सागर बन जाता, जब कागज़ कलम मिल जाते थे|

Say something
No votes yet.
Please wait...

About the Author:

Part time writer/Author/Poet

Leave A Comment