मेरी हिन्दी प्यारी

Home » मेरी हिन्दी प्यारी

मेरी हिन्दी प्यारी

By |2018-09-14T13:27:03+00:00September 14th, 2018|Categories: कविता|Tags: , , |0 Comments

माँ ने सिखाई
अध्यापकों ने सुधारी
मन की बात कहने में समर्थ
मेरी दादी की प्यारी ।
खुशबूदार फूलों की क्यारी ।।
ऐसी है मेरी हिंदी प्यारी ।।

साधन सबसे जुड़ने का
चाहे अपने अनजान से
देश में हर प्रांत से
भावनाओं को करती वहन
दूरियों का करती दमन
खुशबूदार फूलों की क्यारी ।।
ऐसी है मेरी हिंदी प्यारी ।।

बहुत अपनी सी
जैसे हमारा पैतृक मकान ।
सौम्यता बुजुर्ग सी
जैसे रूह की पहचान
खुशबूदार फूलों की क्यारी ।।
ऐसी है मेरी हिंदी प्यारी ।।

उर्दू सा रस घोले मधु सा ।
संस्कृत की सी विद्वता ।
वैर-भाव नहीं तनिक सा ।
देखो! खातिर तुम्हारे
अंग्रेजी को भी छू लिया ।
खुशबूदार फूलों की क्यारी ।।
ऐसी है मेरी हिंदी प्यारी ।।

कब तक कोसोगे ।
और कितना दूर जाओगे ।
माना माँ है मातृ भाषा हमारी ।
हर प्रांत के जन की प्यारी ।
खुशबूदार फूलों की क्यारी ।।
ऐसी है मेरी हिंदी प्यारी ।।

परिवार चाहे कितना ही बढ़ जाए ।
पर क्या कुटुंब को छोड़ जाओगे ।।
माँ को पूजो,मानो
पर
दादी को कैसे भूल जाओगे ।।
खुशबूदार फूलों की क्यारी ।।
ऐसी है मेरी हिंदी प्यारी ।।
– मुक्ता शर्मा

Say something
No votes yet.
Please wait...

About the Author:

सरकारी स्कूल में हिन्दी अध्यापक के पद पर कार्यरत,कालेज के समय से विचारों को संगठित कर प्रस्तुत करने की कोशिश में जुटी हुई , एक तुच्छ सी कवयित्री,हिन्दी भाषा की सेवा मे योगदान देने की कोशिश करती हुई ।

Leave A Comment

हिन्दी लेखक डॉट कॉम

सोशल मीडिया से जुड़ें ... 
close-link