नारी आत्मसम्मान

नारी आत्मसम्मान

नारी
उमंग है,
कोमल तरंग है,
जीवन का नवरंग है,
विचार है, बहार है,
श्रृष्टि का सुंदरतम श्रृंगार है,
संस्कार है, पहरदार है,
आदि है, अनंत है,
पर इच्छाओं से,
परतंत्र है,
नारी…
-पूर्णिमा राज

No votes yet.
Please wait...

Leave a Reply

Close Menu