अधूरा सफ़र

Home » अधूरा सफ़र

अधूरा सफ़र

By |2018-09-30T13:12:46+00:00September 30th, 2018|Categories: गीत-ग़ज़ल|Tags: , , |0 Comments

अधूरा सफ़र
ये गीत  मेरे यार द्वारा सुनाई गई एक घटना से प्रेरित होकर लिखा है कि कोई किस तरह से अपनी ज़िन्दगी से यूँ मुह मोड़ सकता है सीधे कहूँ तो क्या आत्महत्या ही एक हल है?

ऐ मुसाफिर जाने वाले
लौट के फिर न आने वाले
यूँ ना जा तू मुह मोड़ के

यूँ प्यार का दामन छोड़ के
दिल अपनों का तोड़ के
संग जीने की थी कसमें,
संग जीने के थे जो वादे
जग से सारे रिश्ते नाते तोड़ के
जाते जाते ओ…
जाते जाते ऐ मुसाफिर इतना बता
जा रहा तू किस मंजिल की खोज में-2
ऐ मुसाफिर जाने वाले
लौट के फिर न आने वाले
यूँ ना जा तू मुह मोड़ के

यूँ जो तू है जा रहा
के अब है जा रहा
सुन ले मेरी भी कुछ बन्दगी
ओ…आ………
यूँ जो तू है जा रहा
के अब है जा रहा
सुन ले मेरी भी कुछ बन्दगी
जिनको तूने अपना समझा
कुछ ने अपना समझा आपको
जाते जाते ओ…
जाते जाते सबको इतना बता दे
तू क्यों है जा रहा
किनसे मुह मोड़ के
तू क्यों है जा रहा
यूँ हमको तनहा छोडके
जाते जाते इतना बता दे…ओ…….
हाँ जाते जाते इतना बता दे
हम जियेंगे किसके लिए
ऐ मुसाफिर जाने वाले
लौट के फिर न आने वाले
यूँ ना जा तू मुह मोड़ के.

– सुबोध उर्फ़ सुभाष

Say something
No votes yet.
Please wait...

About the Author:

Leave A Comment