यादो में तेरी कहीं खो गया हूँ मैं
रखकर सर तेरी बाँहों में सो गया हूँ मैं
आंखे खुली तब देखा मैंने
धीरे धीरे तेरा हो गया हूँ मैं
( गौरव सिंह विराजकर )

No votes yet.
Please wait...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *