उसकी ज़िंदगी थी अनूपा

Home » उसकी ज़िंदगी थी अनूपा

उसकी ज़िंदगी थी अनूपा

By |2018-10-24T10:03:28+00:00October 24th, 2018|Categories: लघुकथा|Tags: , , |0 Comments

बी.एड की क्लास में जहान्वी का वो पहला दिन था। इतने बड़े कॉलेज में पहली बार संकोच और घबराहट से बुरा हाल था। सभी अनजाने थे। सब कुछ नया, नयी सुबह, नया स्कूल, नए नए सहपाठी। कॉलेज काफी दूर था घर से। बस से भी २० मिनट लगते थे। लंच टाइम में फुर्सत मिली कुछ चेहरों को पढ़ने की। एक चेहरा कुछ अपना सा लगा। सामान्य कद काठी की एक मासूम सी लड़की। कंधे तक खुले बाल, नाक पर मोटा चश्मा, उदास सी मुद्रा में ब्लैक बोर्ड में जाने क्या ताक रही थी बहुत देर से। जाह्नवी उसके पास गयी, उसकी तोड़ते हुए-” क्या हुआ ?कहाँ खोयी हो ?कुछ समस्या हैक्या ?” “नहीं बस घर की याद आ रही थी। यहाँ मैं अपनी मौसी के पास रहती हूँ, बी एड करने के लिए, घर तो बहुत दूर है। “अनूपा ने मेरी ओर देखते हुए कहा। बातो ही बातो में पता चला उसकी मौसी का घर हमारे मोहल्ले में ही है। फिर क्या था दोनों में दोस्ती हो गयी। रोज़ घर से कॉलेज के लिए साथ निकलते, बस में साथ, क्लास में साथ बैठते, लंच भी साथ और शाम को घर वापसी भी साथ-साथ। दिन के १२ घंटे सुबह छह बजे से शाम छः बजे तक दोनों एक साथ। अनूपा-जहान्वी की दोस्ती कॉलेज में फेमस हो गयी। दो-तीन महीने में ही काफी करीब आ गए दोनों।
एक दिन अनूपा बस स्टॉप पर नहीं आयी। जहान्वी को अकेले ही जाना पड़ा। शाम को जाह्नवी ने अनूपा की मौसी के घर जाकर पूछा, तो पता चला अनूपा को तेज बुखार था। उसकी मौसी ने कहा आज ये अपने घर जा रही है। वहीं होगा इसक इलाज। दो-तीन दिन कॉलेज नहीं आएगी। बेचारी जाह्नवी ! इतनी मुश्किल से एक दोस्त मिली थी। उसके बीमार पड़ने से मुलाकात नहीं हो पायी उससे, काफी अकेला महसूस कर रही थी। रोज़ जाह्नवी अनूपा की मौसी के घर जाती उसका हाल पूछने लेकिन मौसी के बेरुखे व्यवहार के कारन कुछ खास ज्ञात न होता। मन मारकर रह जाती। अनूपा से मिले एक हफ्ता बीत चूका था, अब उसे अनूपा की चिंता हो रही थी। कहीं कुछ गड़बड़ तो नहीं। क्या हुआ अनूपा को कोई क्यों नहीं बताता। उसकी कोई खबर नहीं। उसके घर का फोन नंबर भी नहीं था उसके पास। अनूपा के बिना जाह्नवी को कुछ अच्छा नहीं लगता। कुछ समझ नहीं आ रहा था अनूपा की खबर कैसे ली जाये। कैसे पता किया जाये उसके बारे में।
अगले दिन जाह्नवी कॉलेज में प्रिंसिपल से मिली और उनसे अनूपा के घर का नंबर देने को कहा। प्रिंसिपल सर ने विस्मय भरी नजरो से जाह्नवी को देखा, और पूछा तुम्हे इतनी उत्सुकता क्यों है उसका हाल पूछने की। ” सर वो मेरी दोस्त है। हम साथ साथ कॉलेज आते-जाते है। एक हफ्ते से नहीं आयी वो। इसलिए चिंता हो रही थी। ” जाह्नवी ने निर्भीकता से जबाब दिया। उसकी निकली। कॉलेज के दवरा जब अनूपा के घर संपर्क किया गया तो पता चला उसे डेंगू हो गया था। तेजी से पलटेट्स घटने के कारन उसे बचाया नहीं जा सका। स्टाफ रूम में ख़ामोशी छा गयी। जाह्नवी को तो विश्वास ही नहीं हो रहा था अपने कानो पर। एक हफ्ते पहले तक जिसके साथ पूरा दिन बीतता था, अब वो इस दुनिया में नहीं है। उसके जाने से क्लास व कॉलेज को कुछ फ़र्क़ नहीं पड़ा पर जाह्नवी की जैसे सदमे में चली गयी। कुछ दिनों बाद जाह्नवी सामान्य हो गयी लेकिन वो अनूपा की जगह दिल में किसी को ना दे पाई। भले ही अनूपा से उसकी दोस्ती कुछ माह की पुरानी थी लेकिन उसकी ज़िंदगी थी अनूपा।

Say something
No votes yet.
Please wait...

About the Author:

Leave A Comment