तुमसे कितना प्यार है आज हमे मालुम हुआ 

तुमसे कितना प्यार है आज हमे मालुम हुआ 

डिअर मम्मी
love you mummy
कहना तो बहुत कुछ है आपसे जो कभी कहा नहीं। आपको हमेशा दुसरो के जीते जुए देखा है। सारी ज़िंदगी दुसरो की सेवा करते हुए आपने कभी अपने लिया जिया ही नहीं। अब मैं आपके साथ अकेले कुछ वक़्त बिताना चाहती हूँ जहाँ आप सिर्फ अपने लिए मुस्करा सके और फिर से शरारत बचपना करें। आपके हर सपने को जियेंगे हम दोनों। एक दोस्त के जैसे मस्ती करेंगे। शादी के बाद आपकी अहमयित समझ आयी. लव यू मम्मा। आपकी चुलबुली…
तुमसे कितना प्यार है आज हमे मालुम हुआ
कितने अधूरे हैं तुम बिन आज हमे मालुम हुआ

निराशा में आशा की किरण है मेरी माँ
मेरा विश्वास, मेरी ताक़त है मेरी माँ
मेरी शान मेरी पहचान है मेरी माँ
मैं हमेशा खुश रहूं, आगे बढूं
बस यही एक चाह है उनकी
मेरी ख़ामोशी भी सुन लेती है मेरी माँ
दर्द मुझे और रो देती है मेरी माँ
कितना भी लड़ूँ माँ से
लाख दुआएं देती मेरी माँ
पतझड़ में बसंत एहसास है
तुमसे कितना प्यार है आज हमे मालुम हुआ

Rating: 5.0/5. From 1 vote. Show votes.
Please wait...

dr Vandna Sharma

i m free launcer writer/translator/script writer/proof reader.

Leave a Reply

Close Menu