चुपचुप लेकर जाती
नई कलम को पोती
लिखती लिखती
डेर सारे लिखती
कागज पर नहीं
नया बना हुआ
दीवार पर ।

No votes yet.
Please wait...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *