इस दिवाली

Home » इस दिवाली

इस दिवाली

By |2018-11-10T22:45:30+00:00November 10th, 2018|Categories: कविता|Tags: , , |0 Comments

आओ मिल कर दीप जलाये
नफरत को अब दिल से भगाये
अपने कर्म की पूजा करके
जीवन में हर पुण्य कमाये
आओ मिल कर दीप जलाये।

घर को साफ स्वच्छ करके अब
रोग दोष से मुक्ति मिलेगी
पर्यावरण शुद्ध होने से
खुद को नव वी शक्ति मिलेगी
मन में प्रेम की प्रतिमा रखकर
खुशियों के कुछ राग सुनायें
आओ मिलकर दीप जलाये।

प्रेम रंग की रंगोली से
सबके दिल भी अब खिल जायें
खुशियों के सब दिये जलाकर
घर के आँगन को महकाये
नफरत का जो घना अंधेरा
प्रेम का उसमें दिया जलाये
आओ मिलकर दीप जलाये
आओ मिलकर दीप जलाये ।

Say something
No votes yet.
Please wait...

About the Author:

Leave A Comment