गोलगप्पा अर्थात पानी पूरी अर्थात पुचका

Home » गोलगप्पा अर्थात पानी पूरी अर्थात पुचका

गोलगप्पा अर्थात पानी पूरी अर्थात पुचका

By |2018-11-13T13:41:55+00:00November 13th, 2018|Categories: कविता|Tags: , , |0 Comments

गोलगप्पन की कहानी अजब बड़ी है प्यारी,
देखत ही लाइन लगावें चाहें नर हो या नारी|
चाहें नर हो या नारी सभी के मन मैं लडडू फूटें,
लैके दौना हाथ मैं फिर भर भर ठूसें|
कोई खावे सौंठ के साथ कुछ चटनी के लेवें,
दौना भर कै पानी पियें फिर सूखी पापड़ी लेवें|
गिनती करत हैं जैसे एकउ छूट ना जावे,
एक गोलगप्पे के लिए फिर लम्बी बहस छिड़ जावे|

Say something
No votes yet.
Please wait...

About the Author:

Part time writer/Author/Poet

Leave A Comment