जीतने का भरम नहीं रखते
हौसला हम भी कम नहीं रखते
मंज़िलें ख़ुद ही पास आती हैं
दौड़कर हम क़दम नहीं रखते
– डॉ आनन्द किशोर

No votes yet.
Please wait...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *