निंदिया का विचार

Home » निंदिया का विचार

निंदिया का विचार

By |2018-12-03T09:06:42+00:00December 3rd, 2018|Categories: कविता|Tags: , , |0 Comments

आज निंदिया मन मे विचार कर गयी…
जब होम बच्चे थे,
तो माँ गोद मे हमे सुलाती थी,
कभी करती गुदगुदी, कभी कहानी
तो कभी लोरीया सुनाती थी,

बडे होकर हम बहुत पछताते हे,
चाहे कितने भी सोफ्ट गद्दे और तकीये रख ले,
वो गोद वाली नींद कहा हम पाते हे,
आँखो की वो बेला हमसे तकरार कर गयी,
आज निंदिया मन मे विचार गयी…

Say something
Rating: 3.0/5. From 1 vote. Show votes.
Please wait...

About the Author:

Leave A Comment