लक्ष्य है मेरा

लक्ष्य है मेरा

लक्ष्य है मेरा एक एैसे भारत के नव निर्माण का,
बने उदाहरण वो अखंड एकता के प्रमाण का।
जात पाँत,भेदभाव ना ही दिखे कहीं भ्रष्टाचारी,
ना हो कहीं बलात्कार, ना बने कोई अबला नारी।
भावना दिखे जहाँ, प्यार आदर सत्कार की,
ना हो कहीं दंगे, जड़ें मिटी रहें अत्याचार की।
वीर शहीदों के सपनों को हम साकार करें,
आओ एैसे भारत का हम निर्माण करें।

Rating: 2.0/5. From 1 vote. Show votes.
Please wait...

Rahi Mastana

Part time writer/Author/Poet

Leave a Reply

Close Menu