मेरी कलम

Home » मेरी कलम

मेरी कलम

By |2019-01-14T16:34:34+00:00January 14th, 2019|Categories: गीत-ग़ज़ल|Tags: , , |0 Comments

मेरी कलम है प्यासी काफी है
स्याही मुझे ज़रा सी काफी है

आगाह ना करा कर लफ़्ज़ों से
महफ़िल में तेरी खाँसी काफी है

शेर बोलने की वजह नही चाहिए
इक सूरत की उदासी काफी है

और कुछ न करो मेरे वास्ते तुमने
मेरी तन्हाई है तराशी काफी है

मुझे निकाल दिया दिल से मग़र
दिल की ले ली तलाशी काफी है

ये धूल उसकी तस्वीर पर ‘रगी’
हो के बैठी है बासी काफी है

‘रगी’

Say something
No votes yet.
Please wait...

About the Author:

Leave A Comment