यूँ सूरज बन के निकला है,
लगा कर होंठों पर लाली।
थोड़ा इठलाया व बलखाया,
और हद से ज़्यादा शर्माया।
कहा मैं लेने आया हूँ ‘पप्पी’
त्वचा हो जाएगी काली।।

– सर्वेश कुमार मारुत

Rating: 4.0/5. From 4 votes. Show votes.
Please wait...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *