भवर में फसा हूं

भवर में फसा हूं

भवर में फसा हूं दोस्तों निकलना बहुत दुर्लभ है
मगर फिर भी दुनियां भर की डंस को झेलता हूं

न कोई मंजीर न कोई ठिकाना है दोस्तों
बस न जाने कौन सा खुशी ढूढ़ता हूं दोस्तों

बड़ी शिद्दत से मांगा उन्हें दोस्तों
अब ढलती उम्र में हिसाब मांगती है जिंदगी दोस्तों

कहां चैन मिलता है साहब इंसानों को दोस्तों
मगर ‘प्रेम’ यहां लोग घमंड बहुत करते हैं

– प्रेम प्रकाश

Rating: 5.0/5. From 1 vote. Show votes.
Please wait...

प्रेम प्रकाश

प्रेम प्रकाश पीएचडी शोधार्थी (राँची विश्वविद्यालय) झारखण्ड, भारत।

Leave a Reply

Close Menu