मेरी माँ

मेरी माँ

मुझे अपनी बाहों में भर लो माँ,

अपनी लोरी सुना दो न माँ,

मुझे वो बचपन वाला लाड-दुलार

कर लो न माँ ,

अपनी डांट के अलावा मुझमें
अपने प्यार का रंग
भर दो न माँ ।।

जिसे तुम छुपा के रखी हो उसे मेरे
सामने ला दो न माँ,
और मुझे अपने सीने से लगा
लो न माँ,
तरस गयी हूँ तेरी बाहों में आने के लिए
एक बार फिर से मुझे
अपनी बाहों समेट
लो न माँ,
मुझे जी भर के प्यार कर लो न माँ,
कुछ ही पल की ही
मेहमान हूँ मैं,
इसलिए मुझे अभी ही सारा
प्यार दे दो न माँ।।

मैं रहूँ या ना रहूँ लेकिन तेरी यादें
और संग बिताए हुए
पल मुझे हमेशा याद आते
रहेंगे माँ,और ना चाहते
हुए भी अक्सर रूलाते रहेंगे माँ
सिर्फ रूलायेंगे ही नहीं माँ
मुझे सुकूँ के पल भी देंगे और
सारे काम को करने के
लिए हौसला भी देगें माँ,
रोते-रोते कब हँसने लग जाऊँगी
और अपने कामों को खत्म कर
जाऊँगी मुझे पता भी
नहीं चलेगा माँ।।

वो जो तुम्हारी शिकायतें रहती है न मुझसे
उन सबको क्षण भर में
खत्म कर दूँगी माँ,
और तुम्हें यकीन भी नहीं होगा कि मैं
वही हूँ माँ, जिसे तुम हर बात
पर डांटती रहती थी माँ ,
चाह कर भी तुम मुझसे कहना चाहोगी
न कि मैं इतनी बदल कैसे
गयी हूँ?तो तुम तब नहीं
कह पाओगी माँ।।

इसलिए मुझे अभी ही अपनी बाहों में
भर लो और जी भर के
प्यार कर लो न माँ,
जो कुछ छुपा के रखी हो न मेरे लिए
अपने स्नेह को वो सब मुझे
अभी ही दे दो माँ।।

मुझे मेरा बचपन वाला प्यार मुझे वापस
कर दो न माँ,मुझे अपनी
बाहों में भर लो न माँ,एक फिर मुझे
जी भर के प्यार कर
लो न माँ।।
– श्वेता पाण्डेय

Rating: 4.4/5. From 20 votes. Show votes.
Please wait...

This Post Has 4 Comments

  1. Ossm lines. Always love mother and never trust anyone. Mother is the great person on the world.

    Rating: 1.0/5. From 1 vote. Show votes.
    Please wait...
  2. शुक्रिया शुभम उपाध्याय☺

    No votes yet.
    Please wait...
  3. मां तो बस मां है।।।

    Rating: 1.0/5. From 1 vote. Show votes.
    Please wait...
  4. जी बिल्कुल सही कहा आपने L… सर

    No votes yet.
    Please wait...

Leave a Reply

Close Menu