उम्र गँवा दी

उम्र गँवा दी

उम्र गँवा दी मैंने
अपने आँसुओं पर
मुस्कुराहटों का पर्दा गिराते
अपना दर्द सीने में छुपाते
किसी का दिल न टूट जाए
कहीं कोई मुझसे न रूठ जाए
यही सोचते मनाते
क्या कहूँ ! क्या छुपा लूँ !
कैसे चेहरे पर आने से
उन भावों को बचा लूँ !
कहीं दर्द ज़ाहिर न हो जाए
दिल के किसी कोने का
फ़र्ज़ निभाती रही
बहन ,बेटी ,पत्नी ,माँ होने का
बस यूँ ही उम्र गँवा दी मैंने।

No votes yet.
Please wait...

Manju Singh

बीस वर्षों तक हिन्दी अध्यापन किया । अध्यापन के साथ शौकिया तौर पर थोडा बहुत लेखन कार्य भी करती रही । उझे सामजिक और पारिवारिक इश्यों पर कविता कहानी लेख आदि लिखना बेहद पसन्द है।

Leave a Reply

Close Menu