सालती है जब ना तब

Home » सालती है जब ना तब

सालती है जब ना तब

By |2018-01-20T17:09:05+00:00March 17th, 2016|Categories: कविता|0 Comments

मुश्किल नहीं बातों को
भुलाकर बढ जाना आगे;
पर धूल जो लगी है पीठ पर
सालती है जब ना तब
और सालती रहेगी जब तक
कुछ ना कुछ होता रहेगा
कि होने से फिर होने का
इक सिलसिला हो जाएगा
जो फिर कहानी में कई
मोड़ तक ले जाएगा
और जाने का सिला
जानिब तक पहुँच ना पाएगा।

– राजीव उपाध्याय

Say something
Rating: 1.0/5. From 1 vote. Show votes.
Please wait...

Leave A Comment