जब 181A आती हे..

Home » जब 181A आती हे..

जब 181A आती हे..

By |2018-01-20T17:09:05+00:00March 17th, 2016|Categories: हास्य कविता|0 Comments

जब 181A आती हे

चेहरे-पे ख़ुशी छा जाती हे

ये ख़ुशी और दुगनी हो जाती हे

जब हमे सीट मिल जाती हे….

ये निज़ामुदिन से आती हे

और जहांगीर-पूरी को जाती जे

इस बीच ये कई लोगो के

फोन उड़ा ले जाती हे

जब 181A आती हे…

 

ये जहांगीर-पूरी से आते हुए

आजादपुर में अपनी गति को बढ़ाती हे

सब लड़के चड़-जाते ,और

लड़कियां खड़ी रह-जाती हे

जब 181A आती हे…।

 

– शम्भू शर्मा”अमलवासी”

छात्र:हिंदी प्रतिष्ठा(प्रथम वर्ष) सत्यवती कॉलेज,दिल्ली  विश्विद्यालय(06/01/2016)

Say something
No votes yet.
Please wait...

About the Author:

Leave A Comment

हिन्दी लेखक डॉट कॉम

सोशल मीडिया से जुड़ें ... 
close-link