फौजी की प्रेमिका

फौजी की प्रेमिका

ख्वाहिश पूरी करके जाना ||
अपना मुझे बनाने वाले ||
पता नहीं फिर कब मिलोगे ||
कब तक लौट के आने वाले ||

चहक रहा है उपवन सारा ||
महक रही है कलियाँ ||
यौवन उधम मचाये अब तो ||
पांव बजे पैजनिया ||
तेरे प्यार में तड़प रही मै ||
मुझपर तीर चलाने वाले ||
पता नहीं फिर कब मिलोगे ||
कब तक लौट के आने वाले ||

चले जाओगे तुम सीमा पर ||
देश की रक्षा करने को ||
डटे रहोगे अपने पथ पर ||
दुश्मन से हमेशा लड़ने को ||
मैं विरह में यहाँ जलूँगी ||
मुझको सपनो में छलने वाले ||
पता नहीं फिर कब मिलोगे ||
कब तक लौट के आने वाले ||

शीश कटे या जंग तुम जीतो ||
यह भी वक़्त बतायेगा ||
य तो दरश दिखाओगे तुम ||
य बुरा संदेसा आयेगा ||
हंस हंस रो कर मै जीती हूँ ||
संग संग मेरे चलने वाले ||
पता नहीं फिर कब मिलोगे ||
कब तक लौट के आने वाले ||

शम्भू नाथ कैलाशी

Rating: 4.5/5. From 2 votes. Show votes.
Please wait...

शम्भनाथ

पिता का नाम स्वर्गीय श्री बाबूलाल गाँव कलापुर रानीगंज कैथौला प्रतापगढ़ उत्तर-प्रदेश जन्म ०७/०८/१९७४ शिक्षा परानास्तक पुस्तकालय विज्ञानं पेसा नौकरी

This Post Has 2 Comments

  1. Very touching

    Rating: 5.0/5. From 1 vote. Show votes.
    Please wait...
  2. ji dhanyavad

    No votes yet.
    Please wait...

Leave a Reply

Close Menu