मेरे अल्फाज

1 यूँ ही नहीं मिलती मंजिल किसी को बहुत कुछ खोना पड़ता हैं, एक बसंत को पाने के लिए पतझड़ को भी सहना पड़ता है

2अगर इश्क हादसा है तो इससे गुजरने दो,दो दिलों को इसमे घायल होने दो

:कुमार किशन कीर्ति

No votes yet.
Please wait...
Voting is currently disabled, data maintenance in progress.

Kumar kishan kirti

युवा शायर,लेखक

This Post Has One Comment

  1. Kumar kishan kirti

    हिंदी लेखक डॉट कॉम से जुड़कर काफी गर्व महसूस कर रहा हूँ और अपनी रचनाओं को आसानी से पाठकों के बीच पहुँचा रहा हूँ
    :कुमार किशन कीर्ति,युवा लेखक

    No votes yet.
    Please wait...
    Voting is currently disabled, data maintenance in progress.

Leave a Reply