ख्वाहिशें

पानी में डूब रही हैं
मेरी ख्वाहिशें
मुझे एक सूरज की तरह
ऐ आसमां
तुम अपनी बाहों में उठा लो
एक किश्ती सी तैर रही
जल की सतह पर मेरी
लहरों सी उठती गिरती
सांसें
ऐ जिन्दगी
मेरी हमसफर
मेरी दोस्त
मुझे एक बार फिर डूबने से
बचा लो।

मीनल

No votes yet.
Please wait...

Leave a Reply

Close Menu