उपहार

हे भगवन
धन्यवाद
जो मुझे एक भाई दिया
नूर बिखेरता फरिश्ता दिया
खेलने को खिलौना दिया
सपने का उड़न खटोला दिया
खुशियों का बिछौना दिया
आशाओं का पलना दिया
किलकारी मारता
शोर मचाता
झुनझुन करता झुनझुना दिया
पायल के घुंघरू बजाता
एक साज दिया
मधुर वीणा के तार बजाता
एक सुर ताल दिया
प्यार की हिलोर भरता
एक सागर दिया
प्रेम का सुर साधता
एक राग दिया
आसमान में चमकता एक
चाँद दिया
जमीं पे उतरता
झिलमिल सितारों की रोशनी
से जगमगाता एक सुंदर संसार दिया
जन्म जन्म का रिश्ता
हर सांस एक उत्सव और उमंग मनाता
पर्व दिया
मेरे जीने का मुझे
सामान दिया
एक विश्वास की डोर से
बंधा रिश्ता
असीम प्यार का उपहार
मुझे भेंट किया।

मीनल

Rating: 5.0/5. From 1 vote. Show votes.
Please wait...

Leave a Reply

Close Menu